टैगोर के काव्य में उपनिषद दर्शन की अनुगूंज थी-दीक्षित

राहत इंदौरी का ऐसे चला जाना अलविदा राहत अनिश्चितकालीन हड़ताल करने का ऐलान कृष्ण कथा तो बार बार खींचती है ओली की ठोरी में अयोध्या की खोज जारी सचिन पायलट क्या हथियार डाल देंगे बयालीस के गांधी में भगत सिंह का तेवर हाजीपुर हरिहरपुर गांव की बेटी बनी आईएएस 124 प्रखंड की करीब 69 लाख की आबादी बाढ़ की चपेट में पुलिस-दमन का चक्र कभी थमता नहीं स्वराज के लिए ‘जनक्रांति’ की अठहत्तरवीं जयंती अयोध्या के अध्याय की पूर्णाहुति ! अब आगे क्या ? हिंदी अखबारों में हिंदू राष्ट्र का उत्सव ! केरल में खुला संघ का सुपर मार्केट ! एमपी में कांग्रेस अब ‘भगवान’ भरोसे धर्म-धुरंधर’ फिर भीख पर गुज़ारा करेंगे राजनीतिक इष्टदेव तो आडवाणी ही हैं प्रधान मंत्री द्वारा राम मंदिर के शिलान्यास के खिलाफ भाकपा-माले का प्रतिवाद राममंदिर के भूमि पूजन इनका है अहम रोल राम मंदिर संघर्ष यात्रा की अंतिम तारीख पांच अगस्त

टैगोर के काव्य में उपनिषद दर्शन की अनुगूंज थी-दीक्षित

लखनऊ .उत्तर प्रदेश विधान सभा के अध्यक्ष  हृदय नारायण दीक्षित ने प्रतिष्ठित नोबेल पुरस्कार जीतने वाले पहले एशियाई विश्व कवि, श्रद्धेय रवींद्रनाथ टैगोर  की जयन्ती पर भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की है.विधान सभा अध्यक्ष ने कहा कि उनके काव्य ने दुनिया को प्रभावित किया था. उनके काव्य में उपनिषद दर्शन की अनुगूंज थी. उनका रचनासार बहुआयामी था. वे संगीत के भी विद्वान थे. महान भारतीय कवि, उपन्यासकार और विद्वान, रवींद्रनाथ टैगोर ने आठ वर्ष की उम्र में कविताएं लिखना शुरू किया. और 16  वर्ष की उम्र तक वे अपने नाम के साथ प्रतिश्ठित हो चुके थे. एक प्रसिद्ध कवि, हास्य कलाकार, उपन्यासकार, संगीतकार और नाटककार, श्रद्धेय रवींद्रनाथ टैगोर  विश्व के बड़े साहित्यकारों में से एक हैं.श्री दीक्षित ने कहा भारतीय साहित्य और संगीत में उनके महान योगदान के लिए, उन्हें सदैव याद किया जायेगा.

  उत्तर प्रदेश विधान सभा के अध्यक्ष  हृदय नारायण दीक्षित ने बुद्ध पूर्णिमा के अवसर पर प्रदेशवासियों को हार्दिक बधाई दी है. अध्यक्ष, विधान सभा ने अपने सन्देश में कहा है कि महात्मा गौतम बुद्ध ने अपने दार्शनिक व सांस्कृतिक विचारों से भारत ही नहीं बल्कि विश्व को प्रभावित किया था. चीन, जापान, श्री लंका , कोरिया  सहित अनेक  देशों में बौद्ध अनुयायी हैं.  गौतम बुद्ध ने मानवता,  अहिंसा व भारतीय   संस्कृति का जो संदेश दिया था, वह आज भी प्रासंगिक है.वे सदा श्रद्धेय व नमनीय हैं. श्री दीक्षित ने कहा कि महात्मा बुद्ध जी की जयन्ती के अवसर पर उनके दर्शन व आदर्शों से हम सभी को प्रेरणा लेनी चाहिए.

  • |

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :