ताजा खबर
मायावती के फैसले से पस्त पड़ी भाजपा बमबम ! दशहरे के व्यंजन एक यात्रा खारपुनाथ की जीवन का हिस्सा भी है बांस
साझी नदी , साझी भाषा !

अंबरीश कुमार 

बनगांव में हम इच्छामती नदी के किनारे हैं .यह सरहद की नदी है .कई किलोमीटर तक सीमा बनाती है . यह उनकी भी नदी है और यह हमारी भी नदी है .इस नदी में  पद्मा का पानी भी आ जाता है तो हिल्सा भी .ऐसा  बताया गया .आज इक्कीस फरवरी का दिन है और हम सरहद से लौट कर इस नदी के किनारे रुक गए .बनगांव के कुछ आगे ही बांग्ला देश की सीमा में भी गए जो आज खुली हुई थी .और जश्न दोनों तरफ मनाया जा रहा था .यह मातृभाषा का जश्न था .इस पार भी बांग्ला भाषी थे तो उसपार भी .एक नदी और एक भाषा .स्कूली बच्चों की भीड़ दोनों तरफ थी जो अपने स्कूल कालेज से इस जश्न में शामिल होने आए थे .किसी भाषा का ऐसा जश्न हम पहली बार देख रहे थे जिसमे सरहद खुली हुई थी और बिना पासपोर्ट कोई भी आ जा सकता था .इसका इतिहास भी बहुत महत्वपूर्ण है .बांग्ला देश जब पूर्वी पकिस्तान था तब वहां की सरकार ने उर्दू को राष्ट्रभाषा बनाने का एलान किया .बांग्ला भाषी नौजवानों ने इसका विरोध किया .वर्ष 1952 में पाकिस्तानी सेना ने उर्दू को राष्ट्रभाषा को बनाए जाने का विरोध कर रहे छात्रों पर गोली चला दी .करीब आधा दर्जन छात्रों की मौत हो गई .मातृभाषा के सवाल पर शहीद हुए इन छात्रों की याद में अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस मनाया जाता है .इस मौके पर दोनों देश की सरहद खोल दी जाती है और लोग एक दूसरे से मिलते हैं ,मिठाई खिलाते हैं .सांस्कृतिक कार्यक्रम होता है .सरहद पर ही .दोनों तरफ पांडाल लगे थे .छोटी बच्चियों से लेकर युवतियां तक अपनी परम्परागत पोशाक में नजर आ रही थी .यह जश्न अपने को हैरान भी कर रहा था .हमने सीमा पर खड़े बीएसएफ जवानो से उधर जाने के बारे में पूछा तो उसने मुस्करा कर कहा ,बिलकुल जाएं .मै सविता और अंबर दूसरे देश यानी बांग्ला देश  के भीतर चले गए .भाषा तो समझ में आ नहीं रही थी पर बड़े बड़े होर्डिंग /कट आउट पर रविंद्रनाथ  टैगोर और काजी नजरुल इस्लाम को तो पहचान ही सकते थे .टैगोर बांग्ला देश के भी नायक है .उनका गांव भी उधर ही पड़ता है .और बांग्ला देश का राष्ट्रगान  ' आमार सोनार बांग्ला ... भी उन्ही का लिखा था . यह बात अलग है कि उसपार तो टैगोर की होर्डिंग और कट आउट तो नजर आ रहे थे पर इस तरफ ऐसा कुछ भी नहीं था .शायद इसलिए भी क्योंकि मातृभाषा की  शहादत तो उधर वालों ने दी थी .खैर भाषा का ऐसा रंग बिरंगा उत्सव  पहली बार देखा .पर इसकी कोई खबर कोलकोता के किसी भी अखबार में मुझे दूसरे दिन नहीं दिखी .
दरअसल हम आए थे ' आपसदारियां ' के बनगांव पड़ाव में शामिल होने के लिए .' आपसदारियां ' मित्र मंडली का मै नया और गैर साहित्यिक सदस्य हूं .यह समूह ऋतू के हिसाब से देश के दूर दराज के हिस्से में मिलता है .इसमें ज्यादातर साहित्यकार हैं तो कुछ फिल्म वाले भी .मकसद गांव ,समाज ,संस्कृति और प्रकृति को करीब से देखना जिससे रचनाकर्म में मदद मिले .इससे पहले मै छतीसगढ़ के चिल्फी घाटी के कार्यक्रम में शामिल हुआ था .यह दूसरा आयोजन था .हालांकि मोबाइल संपर्क कट जाने की वजह से हम सरहद पर नहीं मिल सके .पर बाद में बैठे और अपने अनुभव भी साझा किए . पर इससे पहले कोलकोता के बालीगंज जहां हम ठहरे हुए थे वहां से करीब सौ किलोमीटर बनगांव के इस इच्छामती नदी के घाट पर पहुंचे थे .दोपहर हो गई थी .पर रास्ते भर वर्षा वृक्ष यानी विलायती सिरिस के बड़े बड़े दरख्त सड़क पर धूप को रोके हुए थे .इस दरख्त के बारे में जानकारी दी प्रकृति और विज्ञान के मशहूर लेखक देवेन मेवारी ने .करीब सौ साल के ऐसे दरख्त पहली बार देखे जिसपर छोटे छोटे पौधो ने अपना ठिकाना बना लिया था .यह इस तरफ से चलते हुए देश पार कर गए थे .मेवारी ने बताया कि 
ये ' रेन ट्री'  हैं. इन्हें हिंदी, मराठी, बांगला भाषा में विलायती सिरिस कहा जाता है. मैंने रेन ट्री के खूबसूरत पेड़ कुछ वर्ष पहले होमी भाभा  विज्ञान शिक्षण केंद्र, मुंबई के हरे-भरे प्रांगण में देखे थे. इनका वैज्ञानिक नाम ' अलबिज़िया समान ' है.अंग्रेजी में यह ' सिल्क ट्री'  भी कहलाता है. इनके फूल गुलाबी-सफेद और रेशमी फुंदनें की तरह होते हैं और बेहद खूबसूरत लगते हैं. इसकी फलियां मीठी और  गूदेदार होती हैं जो गिलहरियों तथा बंदरों को बहुत पसंद हैं. इसलिए इस पेड़ को मंकी पौड भी कहा जाता है.खास बात यह है कि भारत में इसे सौ साल से भी पहले अंग्रेज लाए. यह मूल रूप से मध्य अमेरिका और वेस्टइंडीज का निवासी है. हमारे यहां की आबोहवा इसे खूब पसंद आई और यह देश भर में पनप गया. एक और खासियत यह है कि रेन ट्री दूसरे बड़े छायादार पेड़ों के विपरीत एक दलहनी पेड़ है. इसे मटर का बिरादर कह सकते हैं. इसका मतलब यह है कि इस पेड़ की जड़ों में गांठें होती हैं जिनमें वे बैक्टीरिया रहते हैं जो हवा से नाइट्रोजन लेकर इसे भी देते हैं और जमीन को उपजाऊ भी बनाते हैं. जो भी बांग्ला देश को जाती इस सड़क पर गए होंगे उन्हें इतनी जानकारी इस दरख्त के बारे में शायद ही होगी .इसके अलावा जगह जगह ताल तालाब के किनारे केला ,नारियल और सुपारी के लम्बे दरख्त भी दिखे .
इच्छामती नदी के दोनों किनारे भी नारियल लहरा रहे थे .नदी का हरा पानी ठहरा  हुआ था और किनारे पर जलकुम्भी का अतिक्रमण बढ़ता नजर आ रहा था .बीच धार में एक नाव अकेली थी .न कोई चप्पू न कोई मछुवारा .नदी तो अब बदहाल होती जा रही है .बनगांव के लोग ही इसकी बदहाली के जिम्मेदार है .उधर बांग्ला देश वाले भी इस काम में बराबर के हिस्सेदार हैं .यही तो वह नदी है जिसके बारे में रविंद्रनाथ टैगोर ने लिखा था ,' बारिशों का मौसम है.और मैं नाव पर इस छोटी से नदी इच्छामति से उस पार जा रहा हूं . इसके दोनों किनारों पर गांवों की कतारें हैं .गन्ना,बेंत और पटुवाके पौधे सभी जगह उग आयें हैं .ऐसा लगता है किसी कविता का छंद बार बार दोहराया जा रहा है .और इस वक्त उसका मजा भी लिया जा सकता है .पद्मा जैसे विशाल नदी का छंद याद करना मुश्किल है .लेकिन इस छोटी सी नदी की बलखाती चाल जो बारिश से घटती है और बढ़ती है, एक न भूलने वाला छंद के जैसा ही है. (संदर्भ - टैगोर की चिट्ठियां : पाबना के रास्ते ).
email ईमेल करें Print प्रिंट संस्करण
  • तो अयोध्या पर भारी पड़ेगा कोरेगांव
  • दम है कितना दमन में तेरे देख लिया और देखेंगे
  • विध्वंसकों ने रघुकुल की रीत पर कालिख पोत दी
  • चिनार! तौबा..यह आग !
  • कांग्रेस के आकंठ पाप में डूब गई भाजपा !
  • अंडमान जेल से सावरकर की याचिका
  • हिमालय का चंदन ,हेमवती नंदन
  • कुशीनगर में लोकरंग का रंग
  • सवा चार लाख में बिका था घोड़ाखाल स्टेट
  • अवध का किसान विद्रोह
  • चंचल के गांव में दो दिन
  • मैकलुस्की गंज का एक दिन
  • दो रोटी और एक गिलास पानी !
  • मंत्री की पत्नी ने जंगल की जमीन पर बनाया रिसार्ट !
  • आधी आबादी ,आधी आजादी?
  • घर की देहरी लांघ स्टार प्रचारक बन गई डिंपल
  • मायावती का बहुत कुछ दांव पर
  • लो फिर बसंत आई
  • जिसका यूपी उसका देश ....
  • यनम : इतना निस्पंद !
  • Post your comments
    Copyright @ 2016 All Right Reserved By Janadesh
    Designed and Maintened by eMag Technologies Pvt. Ltd.