ताजा खबर
नेहरु का चरित्र समा गया था मैं अविवाहित हूं लेकिन कुवारां नहीं भारत छोडो आंदोलन और अटल वे एक अटल थे
एअर इंडिया बेचने की तैयारी ?

नई दिल्ली .हज पर एअर इंडिया से जाने के अलावा कोई उपाय नहीं था.सरकार इकॉनॉमी क्लास का खर्चा वसूलती थी 2.11 लाख। इतने में अब लोग दो बार हज यात्रा कर आएंगे .यह टिपण्णी वरिष्ठ पत्रकार दिलीप मंडल ने की है .मंडल के मुताबिक एयर इंडिया की हज सब्सिडी के नाम पर होने वाली आमदनी इसलिए बंद की गई है क्योंकि जून महीने में मोदी जी एयर इंडिया को चार कंपनियों को बेच देंगे.कंपनियों का नाम सत्ता के गलियारों की ख़बर रखने वाले जानते हैं.गौरतलब है कि हज के लिए जेद्दाह की फ़्लाइट पकड़नी पड़ती है. जिस समय प्राईवेट एयरलाइंस 15, 663 रुपए में वहाँ का टिकट दे रही है, उसी दिन के लिए भारत सरकार की एयरलाइंस एयर इंडिया ढाई लाख रुपए वसूल रही है.अब तक हज पर जाने का मतलब एयर इंडिया से जाना होता था.

email ईमेल करें Print प्रिंट संस्करण
  • वे राजा भी थे तो फकीर भी !
  • वे एक अटल थे
  • भारत छोडो आंदोलन और अटल
  • मैं अविवाहित हूं लेकिन कुवारां नहीं
  • नेहरु का चरित्र समा गया था
  • तो भाजपा बांग्लादेश के नारे पर लड़ेगी चुनाव
  • लेकिन नीतीश की नीयत पर सवाल
  • एक थीं जांबाज़ बेगम
  • आदिवासी उभार से दलों की नींद उड़ी
  • रेणु जोगी कांग्रेस से लड़ेंगी !
  • ऐसे थे राजनारायण
  • राफेल डील ने तो लूट का रिकार्ड तोड़ दिया
  • भागीदारी तो बराबर की ?
  • और बांग्लादेश वाले मुख्यमंत्री का क्या करेंगे
  • हिंदी अखबारों का ये कैसा दौर
  • ऐसे थे प्रभाष जोशी
  • तो यूपी का पानी पी जाएगा पेप्सी कोला !
  • एक लेखक का इंसान होना
  • विश्वविद्यालय परिसरों में कुलपति से टकराव क्यों
  • फिर गाली और गोली के निशाने पर कश्मीर
  • Post your comments
    Copyright @ 2016 All Right Reserved By Janadesh
    Designed and Maintened by eMag Technologies Pvt. Ltd.