बाढ़ से मरने वालों की संख्या 19

समाजवादी फिर सड़क पर उतरेंगे मोदी के जन्मदिन पर व्याख्यान माला असाधारण प्रतिभावान सोफिया लॉरेन ! खाने में स्वाद, रंगत और खुशबू ! प्रधानमंत्री ने महत्वपूर्ण योजनाओं का किया शुभारंभ चर्चा यूपी की पालटिक्स पर ऐसा बनकर तैयार होता समाहरणालय पालतू बनाना छोड़ें, तभी रुकेगी वन्यजीवों की तस्करी बाजार की हिंदी और हिंदी का बाजार उपचुनाव की तैयारियों में जुटने का निर्देश काशी मथुरा ,मंदिर की राजनीति की वापसी टीके जोशी भी अलविदा कर गए देश की राजनीति को बदल सकता है किसानों का आंदोलन कहीं हाथ से कुर्सी भी बह न जाए? जवान भी खिलाफ , किसान भी खिलाफ गूगल प्ले स्टोर से हटा पेटीएम का ऐप्लीकेशन हमाम में सभी नंगे हैं और नंगा नंगे को क्या नंगा करेगा! इंडिया शाइनिंग और फील गुड का असली चेहरा कार्पोरेट घरानों के दखल के अंदेशे से किसानों में उबाल दलित अकादमी - ममता ने प्रतिरोध की आवाज को दी मान्यता

बाढ़ से मरने वालों की संख्या 19

आलोक कुमार 

पटना.बिहार में डबल इंजन की सरकार है.यहां पर डबल समस्या से हाहाकार है. महामारी कोरोना पर ब्रेक लग नहीं रहा है.गंडक,बागमती और काेसी परवान पर है.सूबे में 16 जिलों, 120 प्रखंडों और 1152 पंचायतों में कोहराम मचा हुआ है. मंगलवार को बाढ़ से मरने वालों की संख्या 19 पहुंच गयी है. प्रदेश के 16 जिलों के 63 लाख साठ हजार 424 लोग प्रभावित हो चुके हैं. 

आपदा प्रबंधन विभाग के मुताबिक, बिहार में अबतक बाढ़ के कारण कुल 19 लोगों की मौत हो चुकी है, जिसमें से दरभंगा जिले में सबसे अधिक सात लोगों, मुजफ्फरपुर में छह, पश्चिम चंपारण में चार और सीवान में दो लोगों की जान चली गयी.इसके मुताबिक, राज्य के 16 जिलों सीतामढ़ी, शिवहर, सुपौल, किशनगंज, दरभंगा, मुजफ्फरपुर, गोपालगंज, पूर्वी चंपारण, पश्चिम चंपारण, खगड़िया, सारण, समस्तीपुर, सिवान, मधुबनी, मधेपुरा एवं सहरसा जिले के 120 प्रखंडों के 1152 पंचायतों की 63,60,424 आबादी बाढ़ से प्रभावित है. यहां से निकाले गए 4,40,507 लोगों में से 17,916 लोग 17 राहत शिविरों में रह रहे हैं.

बाढ़ के कारण विस्थापित हुए लोगों को भोजन कराने के लिए 1,365 सामुदायिक रसोई की व्यवस्था की गयी है. दरभंगा जिले में सबसे अधिक 15 प्रखंडों के 199 पंचायतों के 18,61,960 लोग बाढ़ से प्रभावित हुए हैं. बाढ़ प्रभावित जिलों में बचाव और राहत कार्य के लिए एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की कुल 33 टीमें तैनाती की गयी हैं.

इन जिलों में बाढ़ का कारण अधवारा समूह नदी, लखनदेई, रातो, मरहा, मनुसमारा, बागमती, अधवारा समूह, कमला बलान, गंडक, बूढ़ी गंडक, कदाने, नून, वाया, सिकरहना, लालबेकिया, तिलावे, धनौती, मसान, कोसी, गंगा, कमला बलान, करेह एवं धौंस नदी के जलस्तर का बढ़ना है. जल संसाधन विभाग के मुताबिक, बागमती नदी सीतामढ़ी, मुजफ्फरपुर एवं दरभंगा में, बूढ़ी गंडक नदी मुजफ्फरपुर, समस्तीपुर एवं खगड़िया में, कमला बलान नदी मधुबनी में, अधवारा नदी सीतामढ़ी में, खिरोई दरभंगा में और घाघरा सीवान में मंगलवार को खतरे के निशान से ऊपर बह रही थी.

  • |

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :