मौसम है रोज खाइए आम

राहत इंदौरी का ऐसे चला जाना अलविदा राहत अनिश्चितकालीन हड़ताल करने का ऐलान कृष्ण कथा तो बार बार खींचती है ओली की ठोरी में अयोध्या की खोज जारी सचिन पायलट क्या हथियार डाल देंगे बयालीस के गांधी में भगत सिंह का तेवर हाजीपुर हरिहरपुर गांव की बेटी बनी आईएएस 124 प्रखंड की करीब 69 लाख की आबादी बाढ़ की चपेट में पुलिस-दमन का चक्र कभी थमता नहीं स्वराज के लिए ‘जनक्रांति’ की अठहत्तरवीं जयंती अयोध्या के अध्याय की पूर्णाहुति ! अब आगे क्या ? हिंदी अखबारों में हिंदू राष्ट्र का उत्सव ! केरल में खुला संघ का सुपर मार्केट ! एमपी में कांग्रेस अब ‘भगवान’ भरोसे धर्म-धुरंधर’ फिर भीख पर गुज़ारा करेंगे राजनीतिक इष्टदेव तो आडवाणी ही हैं प्रधान मंत्री द्वारा राम मंदिर के शिलान्यास के खिलाफ भाकपा-माले का प्रतिवाद राममंदिर के भूमि पूजन इनका है अहम रोल राम मंदिर संघर्ष यात्रा की अंतिम तारीख पांच अगस्त

मौसम है रोज खाइए आम

चंचल 

मलिक साहब जब भी आते है, ज्ञान अलग से लाते है . कल अपना मोबाइल खोल कर सामने रख दिये और हमे समझा गए इसे गौर से सुनिए , खुद चले गए बैगन देखने . स्क्रीन पर एक देवी जी थी और तार्किक बात कर रही थी . जेरे बहस आम था . आम की ढिपुनी से शुरू हुई . उनका कहना था -

आम प्रकृति की अनमोल देन है . सीजन भर एक आम प्रतिदिन खाली पेट खाना चाहिए . खाली पेट आम खाने से ब्लड सुगर कंट्रोल करता है , गैस को खत्म करता है , रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है वगैरह वगैरह . पर नुकसान किसी भी तरफ़ से नही करता .आम को काटकर , चाकू से छील कर नही खाना चाहिए . अगर आम शख्त है तो इसे दांत और हाथ से ही छिलका उतार कर खाइए . सबसे अच्छा होता है आप इसे चूस कर खाइए . पहले दोनो हाथ की उंगलियों से इसे गुलगुलाइये फिर धीरे से ढिपुनि निकालिए फिर चूसिये . आम की ढिपुनि के पास एक तरह का पारदर्शी तरल द्रव निकलता है उसे अपनी भाषा मे चोपी बोलते हैं . अक्सर यह मुलायम त्वचा पर असर दिखा जाती है लेकिन इसका एक दो बूंद अमृत माना जाता है . इसका स्वाद कसैला होता है लेकिन एक तरह का वैक्सीन का काम करता है . गले के अनेक रोगों का इलाज भी कर जाता है बे वजह .

हिदायत - हर आम के पकने की एक उम्र होती है . उसके साथ किसी भी तरह की जोर जबरदस्ती दोनो के लिए हानिकारक होती है . कच्चे पन में ही दवाओं से या पाल से पके आम में वह गुन नही रह जाता जो होता है . इसलिए पेड़ से पके आम का ही सेवन करना चाहिए .

पर शहर में कहां मिलेगा ?फिर वही गांव . गांव में फल बिकते नही थे . अब बिकने लगे हैं जदा कदा . बगीचे में जो गिरे उस पर लपकनेवाले का हक आज भी बदस्तुर कायम है . गांव में जितने भी बगीचे बचे हैं , भोर से ही गांव के गदेलों से भर जाता है.

हिलाया भी जाता है. हिलाने हिलवाने का हक बगीचा मालिक को ही है . एक आदमी जो पेड़ पर चढ़ कर आम की डाल को झकझोरता है उसे गिरे हुए आमों का एक हिस्सा मिलता है .आम खाइए , स्वास्थ्य , सौंदर्य और स्वाद की तासीर मापिये . दुनिया का बेहतरीन आम गांव के बगीचा से मिलता है अलग अलग नाम से . आम की बनावट से , साइज से , स्वाद से , सीरत से और स्वभाव से उन पेड़ों का नाम करण होता है.आम खाने से पहले आम को पानी मे भिगोना जरूरी है . वांगमय कहता है सौंदर्य और स्वाद की जननी है जल .फोटो साभार फेसबुक से 


  • |

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :