आचार्य हजारी प्रासाद द्विवेदी

राहत इंदौरी का ऐसे चला जाना अलविदा राहत अनिश्चितकालीन हड़ताल करने का ऐलान कृष्ण कथा तो बार बार खींचती है ओली की ठोरी में अयोध्या की खोज जारी सचिन पायलट क्या हथियार डाल देंगे बयालीस के गांधी में भगत सिंह का तेवर हाजीपुर हरिहरपुर गांव की बेटी बनी आईएएस 124 प्रखंड की करीब 69 लाख की आबादी बाढ़ की चपेट में पुलिस-दमन का चक्र कभी थमता नहीं स्वराज के लिए ‘जनक्रांति’ की अठहत्तरवीं जयंती अयोध्या के अध्याय की पूर्णाहुति ! अब आगे क्या ? हिंदी अखबारों में हिंदू राष्ट्र का उत्सव ! केरल में खुला संघ का सुपर मार्केट ! एमपी में कांग्रेस अब ‘भगवान’ भरोसे धर्म-धुरंधर’ फिर भीख पर गुज़ारा करेंगे राजनीतिक इष्टदेव तो आडवाणी ही हैं प्रधान मंत्री द्वारा राम मंदिर के शिलान्यास के खिलाफ भाकपा-माले का प्रतिवाद राममंदिर के भूमि पूजन इनका है अहम रोल राम मंदिर संघर्ष यात्रा की अंतिम तारीख पांच अगस्त

आचार्य हजारी प्रासाद द्विवेदी

गिप्पी से मिलने आया है बांगड़ू .

आचार्य हजारी प्रासाद द्विवेदी

- प्रणाम

आशीर्वाद के लिए चश्मा दुरुस्त हो , इसके पहले ही सफेद मूछों के नीचे से एक मुस्कुराहट फैल गयी .

-गिप्पी से मिलना था.पंडित जी हंसते हंसते रुक गए - ' सुनती हो ! गिप्पी से मिलने आया है बांगड़ू . '

बस इतने की ही दरकार होती , 'सुनती हो ' तक पहुंचना . गिप्पी मिलें या न मिलें . रविन्द्रपुरी वाले मकान के आंगन में मचिया पर बैठी माँ अब भी घूंघट में रहती हैं . उनकी भाषा वही भोजपुरी . पर समझती कई भाषा है .बैठ.- अम्मा कल वाला कुछ बचा है .

यह कोई नई बात नही होती थी . जिस रात माछ भात बनता दूसरे दिन अल सुबह किसी न किसी बेटे के दोस्त का आमद तय रहता . मां का प्यार सोर्सेबाटा के तीखेपन में मिल कर आंगन को महका जाता . पंडित जी के साथ शांतिनिकेतन की गुरूपल्ली की लंबी रिहाइश ने भाषा , भोजन और बसुधैव कुटुम्बकम तो दिया ही . पंडित जी और मां दोनो जन आजीवन इसे जीते रहे . खुद शाकाहारी रहे लेकिन बच्चों के लिए मां जी ' रन्ना घोरे ' सिलबट्टे पर खस खस और सरसों खुद पिसती रहीं .हमने एक छोटा सा प्रकरण इसलिए सुना दिया कि पंडित जी का लेखन इसी सोच में बड़ा हुआ है . कितनी भी बड़ी दिक्कत आई , पंडित जी डिगे नही , हंस कर उसे ठहाके में ढाल देते थे . एक वाक्या सुन लीजिए

आचार्य जी विश्वविद्यालय के रेक्टर बना दिये गए . रेक्टर विश्व विद्यालय का कुलपति के बाद दूसरे नम्बर का प्रशासनिक ओहदा होता है . एक दिन अपनी मांग को लेकर छात्र नेताओं ने उनका घेराव कर दिया . आचार्य जी ने कभी पुलिस सुरक्षा को पसंद नही किया . छात्र अपनी मांग पर अड़े रहे ,आचार्य जी समझाते रहे. थोड़ी देर में आचार्य जी अपनी कुर्सी से उठे और बोले - हम तुम लोंगो को आशीर्वाद देना चाहता हूं . अचानक आशीर्वाद ? छात्र नेताओं में सन्नाटा पर जिज्ञासा के साथ . एक ने गला ठीक किया और बोला फिर दे दीजिए न . आचार्य जी मुस्कुराये और जोर से बोले - तुम लोग इतना पढ़ लिख लो कि रेक्टर और कुलपति बन जाओ . जोर का ठहाका लगा . छात्र नेताओं ने रेक्टर साहब का पैर छुआ और प्रणाम करके बाहर निकल गए . मानवीय समाज की बहुत अनोखी शख्सियत हिंदी के बटवारे में दर्ज हो गई .

प्रणाम

  • |

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :