ताजा खबर
नेहरु का चरित्र समा गया था मैं अविवाहित हूं लेकिन कुवारां नहीं भारत छोडो आंदोलन और अटल वे एक अटल थे
जोगी की तोडफोड़ शुरू ,देवव्रत पहले शिकार

अनिल चौबे 

रायपुर .जाति मामले में हाई कोर्ट की ओर से राहत मिलने  के बाद पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी बम बम हैं .वे विधान सभा चुनाव की तैयारी में जुट गए हैं .कांग्रेस के पूर्व सांसद देवव्रत सिंह भी उनके साथ आ गए हैं  .गौरतलब है कि हाई कोर्ट ने इस मामले में एक और हाई पावर कमेटी बनाने का आदेश दिया है.मुख्यमंत्री  डॉ. रमन सिंह ने कहा कि कोर्ट का आदेश का तुरंत पालन होगा. जल्द ही कमेटी का गठन किया जाएगा.जबकि पहले अजीत जोगी को राज्य की हाई पावर कमेटी ने आदिवासी नहीं माना था.यह कमेटी आईएएस रीना बाबा साहेब कंगाले के नेतृत्व में गठित की गई थी.इस कमेटी ने जोगी को ईसाई माना था.
 
इस बीच पूर्व सांसद देवव्रत सिंह ने गुरुवार को समर्थकों के साथ छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस (जे) का दामन थाम लिया. छुईखदान ब्लॉक से 30 किमी दूर पैलीमेटा गांव में आयोजित कार्यक्रम में पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी भी मौजूद थे.जोगी ने कहा कि देवव्रत का आना प्रदेश के लिए धमाका है. तबियत ठीक नहीं होने के बावजूद देवव्रत का प्यार मुझे यहां खींच लाया.अब मेरी तरफ से खैरागढ़ के नेता देवव्रत सिंह हैं. वे जनरैल सिंह भाटिया के साथ जिले की कमान भी संभालेंगे.
इस मौके पर जोगी ने कहा कि किसानों को धान का समर्थन मूल्य 2400 रुपए देना था, लेकिन सरकार ने नहीं दिया। एकल बत्ती कनेक्शन वालों के घर चाइना का मीटर लगवा दिया. बिजली गुल रहती है, लेकिन मीटर चलता रहता है. इतना कहने के बाद उन्होंने खुद ही  अबकी बार, जोगी सरकार के नारे लगवाए. दूसरी तरफ कांग्रेस के नेता टीएस सिंह देव ने कहा ,देवव्रत तो उन्ही की गोद में जाकर बैठ गए जिन्होंने पिछले चुनाव में उन्हें हरवाया था .देव ने यह भी कहा कि जोगी कांग्रस का ही नहीं भाजपा का भी नुकसान करेंगे खासकर मैदानी इलाकों में .
 
email ईमेल करें Print प्रिंट संस्करण
  • वे राजा भी थे तो फकीर भी !
  • वे एक अटल थे
  • भारत छोडो आंदोलन और अटल
  • मैं अविवाहित हूं लेकिन कुवारां नहीं
  • नेहरु का चरित्र समा गया था
  • तो भाजपा बांग्लादेश के नारे पर लड़ेगी चुनाव
  • लेकिन नीतीश की नीयत पर सवाल
  • एक थीं जांबाज़ बेगम
  • आदिवासी उभार से दलों की नींद उड़ी
  • रेणु जोगी कांग्रेस से लड़ेंगी !
  • ऐसे थे राजनारायण
  • राफेल डील ने तो लूट का रिकार्ड तोड़ दिया
  • भागीदारी तो बराबर की ?
  • और बांग्लादेश वाले मुख्यमंत्री का क्या करेंगे
  • हिंदी अखबारों का ये कैसा दौर
  • ऐसे थे प्रभाष जोशी
  • तो यूपी का पानी पी जाएगा पेप्सी कोला !
  • एक लेखक का इंसान होना
  • विश्वविद्यालय परिसरों में कुलपति से टकराव क्यों
  • फिर गाली और गोली के निशाने पर कश्मीर
  • चंदा कोचर तो अपने पद पर बरक़रार हैं
  • भाजपा के निशाने पर क्यों हैं अखिलेश !
  • एमपी में बनेगा गाय मंत्रालय !
  • विधायक पर फिर बरसी लाठी
  • तो नोटबंदी से संगठित लूट हुई
  • Post your comments
    Copyright @ 2016 All Right Reserved By Janadesh
    Designed and Maintened by eMag Technologies Pvt. Ltd.