Post your Comment
News Title बुलडोज़र की दहशत में नींद गायब
News Summary

 शिरीष खरे 

सूरत/ मीराबेन को अब नींद नहीं आती. क्यों ? उनके पास इसका सीधा जवाब है- “अगर आदमी को फांसी पर लटकाना तय हो, मगर तारीख तय न हो तो उसे नींद कैसे आएगी ? ’’
मीरा बेन और उनके जैसे सूरत शहर के हजारों लोग इन दिनों परेशान हैं. परेशानी का सबब है उनका आशियाना, जिसे कभी भी, कोई भी सरकारी अ....
Heading :
Description:
Email ID:
Posted By :
Location:
     
       
Copyright @ 2016 All Right Reserved By Janadesh
Designed and Maintened by eMag Technologies Pvt. Ltd.